29 November 2022 शेयर बाजार ने की सुस्त शुरुआत, सेंसेक्स रिकॉर्ड उच्च स्तर पर कर रहा कारोबार

Stock Market Opening Bell 29 ( November 2022 शेयर बाजार ने की सुस्त शुरुआत, सेंसेक्स रिकॉर्ड उच्च स्तर पर कर रहा कारोबार ) : अपोलो हॉस्पिटल्स, हिंदुस्तान यूनिलीवर, डॉ रेड्डीज, हिंडाल्को, और टाटा स्टील सबसे ज्यादा लाभ में थे और हरे निशान पर कारोबार कर रहे थे. जबकि बजाज फिनसर्व, टाटा मोटर्स, बीपीसीएल, एलएंडटी, और मारुति सुजुकी सबसे ज्यादा नुकसान में थे.

नई दिल्ली: 

Stock Market Opening: ग्लोबल मार्केट से मिले कमजोर संकेत के बीच भारतीय शेयर बाजार (Stock Market) ने आज कारोबार की शुरुआत सपाट नोट पर की है. हफ्ते के दूसरे कारोबारी दिन प्रमुख बेंचमार्क इंडेक्स सेंसेक्स (Sensex) और निफ्टी (Nifty) दोनों गिरावट के साथ खुला. सेंसेक्स कारोबारी सत्र की  शुरुआत में 144 अंक टूटकर 62360 के लेवल पर खुला. वहीं, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी नुकसान के साथ खुला. निफ्टी ने 24.20 अंकों की गिरावट के साथ 18,459.90 के लेवल पर कारोबार की शुरुआत की.

हालांकि, लाल निशान पर कारोबार की शुरुआत करने के बाद बाजार ने जल्द ही रिकवरी कर ली. जिसके बाद सेंसेक्स 91.15 अंक यानी 0.15 प्रतिशत बढ़कर 62595.95 पर और निफ्टी 33 अंक यानी 0.18 प्रतिशत की तेजी के साथ 18595.80 के लेवल पर कारोबार करता दिखाई दिया.

आज के कारोबारी सत्र की शुरुआत में अपोलो हॉस्पिटल्स, हिंदुस्तान यूनिलीवर, डॉ रेड्डीज, हिंडाल्को, और टाटा स्टील सबसे ज्यादा लाभ में थे और हरे निशान पर कारोबार कर रहे थे. जबकि बजाज फिनसर्व, टाटा मोटर्स, बीपीसीएल, एलएंडटी, और मारुति सुजुकी सबसे ज्यादा नुकसान में थे. इन शेयरों में कारोबार की शुरुआत से ही निवेशकों ने कम रुचि दिखाई.

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के आंकड़ों से पता चलता है कि पिछले कारोबारी दिन रिकॉर्ड उच्च स्तर पर पहुंचने के बाद बीएसई सेंसेक्स 211.16 अंक यानी 0.34 प्रतिशत की बढ़त के साथ 62,508.80 पर बंद हुआ था.

अगर अन्य एशियाई बाजारों की बात करें तो  सियोल, शंघाई और हांगकांग के बाजार हरे निशान में कारोबार कर रहे थे, जबकि टोक्यो के बाजार में गिरावट दर्ज की गई है. वहीं, वॉल स्ट्रीट भी सोमवार को नकारात्मक नोटपर बंद हुआ था.

इसके अलावा अंतर्राष्ट्रीय तेल बेंचमार्क ब्रेंट क्रूड 1.39 प्रतिशत बढ़कर 84.35 डॉलर प्रति बैरल पर कारोबार कर रहा था.

एक्सचेंज के आंकड़ों के मुताबिक, विदेशी संस्थागत निवेशकों (FPI)  सोमवार को फिर से खरीदार बने. उन्होंने कल के कारोबारी सत्र के दौरान  935.88 करोड़ रुपये के भारतीय शेयरों की खरीद की है..

अमेरिका और यूरोपीय बाजारों में गिरावट
चीन में कोरोना संक्रमण बढ़ने और लॉकडाउन की वजह से हो रहे प्रदर्शन का असर ऐपल की यूनिट पर भी पड़ा है, जिससे अमेरिकी शेयर बाजार में इस कंपनी के शेयर गिर गए. यही कारण रहा कि पिछले कारोबारी सत्र में अमेरिका के सभी स्‍टॉक एक्‍सचेंज पर गिरावट दिख रही है. S&P 500 पर 1.54 फीसदी तो Nasdaq Composite पर 1.58 फीसदी का नुकसान दिखा. इसके अलावा Dow Jones भी 1.45 percent गिरावट के साथ बंद हुआ है.

अमेरिका की तर्ज पर यूरोपीय बाजारों में भी पिछले कारोबारी सत्र के दौरान गिरावट रही और सभी प्रमुख शेयर बाजार नुकसान के साथ बंद हुए. यूरोप के प्रमुख शेयर बाजारों में शामिल जर्मनी का स्‍टॉक एक्‍सचेंज पिछले कारोबारी सत्र के दौरान 1.09 फीसदी के नुकसान पर बंद हुआ, जबकि फ्रांस का शेयर बाजार 0.70 फीसदी के नुकसान पर रहा. लंदन स्‍टॉक एक्‍सचेंज पर भी पिछले सत्र में 0.17 फीसदी की गिरावट दिखी.

एशियाई बाजार भी लाल निशान पर
एशिया के ज्‍यादातर शेयर बाजार आज सुबह गिरावट पर खुले और लाल निशान पर कारोबार कर रहे हैं. सिंगापुर स्‍टॉक एक्‍सचेंज पर आज सुबह 0.44 फीसदी का नुकसान दिख रहा तो जापान के निक्‍केई पर 0.52 फीसदी का नुकसान है. हांगकांग का शेयर बाजार आज सुबह 1.57 फीसदी के नुकसान पर कारोबार कर रहा, जबकि ताइवान में 0.55 फीसदी की गिरावट है. दक्षिण कोरिया का कॉस्‍पी बाजार आज 0.26 फीसदी की बढ़त पर कारोबार कर रहा है.

इन शेयरों पर लगाएं दांव
एक्‍सपर्ट का कहना है कि आज के कारोबार में कई ऐसे भी शेयर हैं, जो दबाव के बावजूद आपको मुनाफा दिला सकते हैं. इन शेयरों को हाई डिलीवरी पर्सेंटेज स्‍टॉक कहा जाता है और आज इस श्रेणी में ITC, ICICI Lombard General Insurance, ICICI Prudential Life Insurance, ICICI Bank और Dabur India जैसी कंपनियों के शेयर रहेंगे.

विदेशी निवेशकों का लौटा भरोसा
बाजार में तेजी का सबसे बड़ा कारण है विदेशी निवेशकों का भरोसा वापस आना. पिछले कारोबारी सत्र में भी विदेशी संस्‍थागत निवेशकों ने भारतीय शेयर बाजार में 935.88 करोड़ रुपये के शेयरों की खरीदारी की. इस दौरान घरेलू संस्‍थागत निवेशकों ने भी 87.93 करोड़ रुपये के शेयर खरीद लिए.

Leave a Comment